रविवार, 5 जुलाई 2009

अमर उजाला को धन्यवाद

30 जून के अंक में अमर उजाला के संपादकीय पृष्ठ पर स्तंभ ब्लाग कोना में अभिव्यिक्त को स्थान मिला है। इसमें जातियों के अभ्युदय को लेकर लिखे गए आलेख को प्रकाशित किया गया है। इसके लिए मैं अमर उजाला की संपादकीय टीम में कार्यरत अग्रजों-अनुजों का आभारी हूं।

5 टिप्‍पणियां:

अजय कुमार झा ने कहा…

आपको बहुत बहुत बधाई..अच्छी लेखनी को स्थान मिलता ही है..दिल में भी और जहां में भी....

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

बहुत बधाई जी पण्डितजी आपको.

रामराम.

अशोक पाण्डेय ने कहा…

आपको बहुत बहुत बधाई।

राकेश सिंह ने कहा…

बधाई हो त्रिपाठी जी | वैसे आपका लेख किसी भे पत्र - पत्रिका मैं छपने के काबिल है |

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

बहुत बधाई, पंडितजी महाराज!